Header Ads Widget

Responsive Advertisement

CDS जनरल बिपिन रावत ने कहा है- अब अफगानिस्तान पर कब्जे की तालिबानी रफ्तार से हम भी हैरान, जबकि 20 साल में नहीं बदला यह आतंकी संगठन, जानिए सब कुछ हिंदी में

 

CDS जनरल बिपिन रावत ने कहा है- अब अफगानिस्तान पर कब्जे की तालिबानी रफ्तार से हम भी हैरान, जबकि 20 साल में नहीं बदला यह आतंकी संगठन, जानिए सब कुछ हिंदी में


आपको बताते चले कि चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत के मुताबिक कहा गया है, तालिबान ने जिस तेजी से अफगानिस्तान पर कब्जा किया उससे भारत  हैरान है।

 इसके साथ ही बुधवार को एक प्रोग्राम के दौरान जनरल रावत ने माना है कि भारत को भी यह आशंका थी कि तालिबान एक दिन अफगानिस्तान पर काबिज भी हो जाएगा, 

लेकिन अब यह सब इतनी तेजी से हो जाएगा, यह नहीं सोचा था कि उनके मुताबिक 20 साल के बाद भी तालिबान बिल्कुल नहीं बदला है।


अब क्या भारत सख्ती से निपटेगा?
आपको बता दे कि दिल्ली में ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन (ORF) के कार्यक्रम में ही जनरल रावत के साथ US इंडो-पैसेफिक कमांड के एडमिरल जॉन अक्विलिनो शामिल हुए है। 

और फिर दोनों अफसरों ने ही अफगानिस्तान और रीजनल सिक्योरिटी से जुड़े अहम सवालों के जवाब भी दिए है। 

अब इसके साथ ही अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे और इसके भारत पर संभावित असर का जिक्र करते हुए जनरल रावत ने कहा है कि- अगर तालिबान के कंट्रोल वाले अफगानिस्तान से,

 भारत की ही तरफ किसी भी तरह की आतंकी गतिविधियां हुईं तो हम तेजी और सख्ती से कार्रवाई करेंगे जबकि क्वॉड देशों को भी ग्लोबल टेरेरिज्म से निपटने के लिए सहयोग भी बढ़ाना होगा।


इसके साथ ही क्वॉड चार देशों का संगठन है और इसमें भारत, अमेरिका व जापान और ऑस्ट्रेलिया शामिल हैं और चीन इसे हिंद महासागर में अपने लिए सबसे बड़ा खतरा और सैन्य चुनौती भी मानता आया है।


अब भारत के सामने भी आया चैलेंज
अब आपको बताते चले कि एडमिरल अक्विलिनो ने चीन का नाम लिए बिना माना कि भारत लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर चैलेंज का सामना भी कर रहा है,

और फिर दक्षिण चीन सागर में भी कई चुनौतियां हैं और फिर उन्होंने फ्री नेविगेशन पर जोर दिया। हॉन्गकॉन्ग में चीन के रवैये पर भी एडमिरल जॉन ने चिंता जताई है।

इसके साथ ही वहीं जनरल रावत ने कहा कि भारत इस क्षेत्र को आतंकवाद मुक्त बनाने के लिए काम कर रहा है। उन्होंने कहा भी है कि भारत को आशंका है कि,

 अफगानिस्तान के हालात का असर ही हमारे देश पर भी पड़ सकता है और फिर भारत इससे निपटने के लिए रणनीति भी तैयार कर रहा है।



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ