Header Ads Widget

Responsive Advertisement

नई की तुलना में पुरानी कारों की डिमांड बढ़ी, जबकि पिछले साल 38 लाख यूज्ड कारें बिकी और फिर इन्हें खरीदने वक्त आप भी डीलर जैसी जरूरी बातें फॉलो करें, जानिये पूरी रिपोर्ट हिंदी में

 

नई की तुलना में पुरानी कारों की डिमांड बढ़ी, जबकि पिछले साल 38 लाख यूज्ड कारें बिकी और फिर इन्हें खरीदने वक्त आप भी डीलर जैसी जरूरी बातें फॉलो करें, जानिये पूरी रिपोर्ट हिंदी में 



बता दे कि देश में नई कारों से ज्यादा सेकेंड हैंड कारों की डिमांड में तेजी आई है और रिसर्च फर्म फ्रॉस्ट एंड सुलिवन के मुताबिक, फाइनेंशियल ईयर 21 में 38 लाख यूज्ड और 26 लाख नई कारें बिकी हैं जबकि फर्म का अनुमान है कि,
 FY25 तक सेकेंड हैंड कारों की बिक्री का आंकड़ा 82 लाख तक पहुंच ही जाएगा वैसे, कारों की डिमांड बढ़ने की एक बड़ी वजह कोविड-19 महामारी भी है इसके साथ ही आपको बताते चले की लोग पब्लिक ट्रांसपोर्ट से बचने के लिए कार खरीद रहे हैं।

यदि आप भी सेकेंड हैंड कार खरीदने जा रहे हैं तो डील फाइनल करने से पहले उससे जुड़ी कुछ जरूरी बातें जरूर ध्यान रखें और तभी आप अपने लिए एक बढ़िया कार का सिलेक्शन भी कर पाएंगे।


 जब एक डीलर कार खरीदता है तब वो उससे जुड़ी हर छोटी डिटेल पता करता है और फिर आपको भी बस यही डिटेल पता होना चाहिए। ये डिटेल कार बेचने के वक्त भी काम आती है।


इसके साथ ही आपको बताते चले की यूज्ड कार खरीदने और बेचने वाली कंपनी CARS24 के भोपाल ब्रांच के रिटेल मैनेजर, हर्षवर्धन पांडे ने हमें कार खरीदने और बेचने के हर पहलू के बारे में बताया और बस इन्हीं के बारे में आपको ध्यान रखना है। 


अब जब कि आप CARS24 पर कार बेचने जाते हैं तो फिर सबसे पहले गाड़ी का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (RC) और इंश्योरेंस चेक किया जाता है। जबकि RC में गाड़ी के चेसिस नंबर और ओनर के नाम को RTO में रजिस्टर्ड डिटेल से मैच भी किया जाता है।


 और यदि डिटेल मैच नहीं होती तब डील नहीं होगी। जबकि इसके अलावा, कार का इंश्योरेंस कब तक वैलिड है और उस पर नो क्लेम बोनस है या नहीं, इसे चेक किया जाता है।


अब इसके साथ ही आपको प्राइमरी इंस्पेक्शन में गाड़ी और ओनर की डिटेल सही निकलती है और उसके बाद डील की सेकेंड स्टेज से ही शुरू होती है और अब इस स्टेज में गाड़ी का 5 अलग तरह से इंस्पेक्शन भी किया जाता है। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ