Header Ads Widget

Responsive Advertisement

tokyo olympics 2021 - पूरी दुनिया के टेनिस खेल के सबसे बड़े खिलाडी के एलान सुनिए, और कितनी है हकीकत, क्या है खबर जानिये

 

tokyo olympics 2021 - पूरी दुनिया के टेनिस खेल के सबसे बड़े खिलाडी के एलान सुनिए, और कितनी है हकीकत, क्या है खबर जानिये 


Tokyo Olympics 2021 - आपकी जानकारी के लिए आपको बताते चले की विश्व के नंबर एक खिलाड़ी सर्बिया के नोवाक जोकोविच ने टोक्यो ओलंपिक 2021 में भाग लेने को लेकर एक बड़ा बयान भी दिया है.


और फिर इसके साथ ही कल विंबडलन 2021 के फाइनल में इटली के मैटियो बेरेटिनी को हराकर ही अपने करियर का 20वां ग्रैंड स्लैम खिताब जीतने वाले जोकोविच ने मैच के बाद कहा है कि, उन्होंने ओलंपिक में भाग लेने को लेकर अब तक कोई फैसला ही नहीं लिया है। 


जबकि उन्होंने कहा है कि, आयोजकों ने ओलंपिक में मैच के दौरान फैंस के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया है और फिर साथ ही खिलाड़ियों के स्टाफ की संख्या में भी कटौती कर दी जा चुकी है और फिर इस सब को ध्यान में रखते हुए मेरे इन खेलों में हिस्सा लेने की फिलहाल 50-50 ही संभावना है।  


आपको बता दे की जोकोविच ने कहा है की, "मैं इस बात को लेकर बेहद निराश हूं कि टोक्यो ओलंपिक में बिना दर्शकों के ही मुकाबले खेले जाएंगे और फिर मुझे ये जानकारी भी मिली हैं कि इन खेलों के दौरान खिलाड़ियों को कई कड़े नियमों का पालन भी करना ही  होगा."


इसके साथ ही उन्होंने कहा है की, " इन नियमों के बाद ही आप अन्य एथलीटों के मुकाबलें भी लाइव नहीं देख पाएंगे और फिर साथ ही मैं अपनी टीम में जितने लोगों को ले जा सकता हूं उनकी संख्या भी बेहद सीमित ही है।"


क्या गोल्डन स्लैम जीतने का भी बना सकते है रिकॉर्ड जानिये पूरी रिपोर्ट- आपकोबताते चले की कल खेले गए विंबडलन 2021 के फाइनल में जोकोविच ने इटली के बेरेटिनी को 6-7 (4), 6-4, 6-4, 6-3 से ही पराजित भी किया।


और फिर ये इस साल का उनका तीसरा ग्रैंड स्लैम खिताब भी रहा। आपको बताते चले की  जोकोविच इस से पहले ऑस्ट्रेलियाई ओपन और फ्रेंच ओपन का खिताब भी जीत चुके हैं और अब यदि जोकोविच ओलंपिक में हिस्सा भी लेते हैं, 



और फिर गोल्ड मेडल जीतते हैं और इसके साथ ही वो इस साल के आखिरी ग्रैंड स्लैम यूएस ओपन का खिताब भी अपने नाम कर लेते हैं तो फिर गोल्डन स्लैम जीतने का अनोखा रिकॉर्ड अपने नाम ही कर सकते हैं और जबकि आपको बता दे की आज तक किसी भी पुरुष खिलाड़ी ने ये उपलब्धि हासिल की ही नहीं है। 


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ