Header Ads Widget

Responsive Advertisement

Read IAS success story- एक समय पर पढ़ाई के लिए खेत और घर भी रखा करते थे गिरवी माधव गिट्टे जानिये पूरी रिपोर्ट

 

Read IAS success story- एक समय पर पढ़ाई के लिए खेत और घर भी रखा करते थे गिरवी माधव गिट्टे जानिये पूरी रिपोर्ट 


read Success Story Of IAS Topper Madhav Gitte- आपको बताते चले की वैसे तो आज तक आपने यूपीएससी में सफलता प्राप्त करने वाले कई कैंडिडेट्स की कहानी सुनी ही होंगी अब लेकिन आज आपको बेहद संघर्ष करके अपनी किस्मत बदलने वाले आईएएस अफसर माधव गिट्टे की कहानी भी बताएंगे,

 आपको बताते चले की महाराष्ट्र के नांदेड़ के रहने वाले माधव के माता-पिता अशिक्षित थे और उनके पास आय का कोई भी ठोस साधन ही नहीं था और फिर जबकि दोनों खेती और मजदूरी करके परिवार को पालते थे और फिर ऐसी स्थिति के बीच माधव ने अपनी ही 10वीं तक की पढ़ाई ही की और फिर जबकि,


 इसी दौरान उनकी मां का कैंसर से निधन भी हो गया था अब इसके बाद उन पर दुखों का एक पहाड़ सा ही टूट पड़ा और फिर जिंदगी और भी संघर्षपूर्ण हो गई और अब सब गिरवी रखकर उन्होंने इंजीनियरिंग भी की और फिर इसके बाद यूपीएससी परीक्षा पास कर आईएएस बनने का सपना साकार ही कर लिया। 


आखिर इंजीनियरिंग के लिए घर और खेत गिरवी रखन पड़ा, जानिये पूरी रिपोर्ट-
आपको बताते चले की 12वीं के बाद माधव ने एक ही डिप्लोमा किया और फिर जो उन्होंने लोगों से पैसे उधार लेकर किया था और फिर माधव के वहां बहुत अच्छे नंबर आए और उन्हें पुणे के एक कॉलेज में इंजीनियरिंग में दाखिला लेने का भी एक ऑफर मिल गया। 


 आपको बताते चले की माधव के घर की स्थिति बेहद कमजोर थी और फिर ऐसे में उनके परिवार ने घर और खेत गिरवी रखकर फीस भरी और फिर उनके 4 साल की फीस भरने के लिए पूरे परिवार को ही काफी मेहनत करनी पड़ी थी। 


और अंत में आखिरकार इस इंजीनियरिंग के बाद उन्होंने एक नौकरी ज्वाइन कर ली और फिर इसके बाद भी धीरे-धीरे उन्होंने घर और खेत का लोन भी चुकाया। 



आखिर इस तरह से आया यूपीएससी का खयाल जानिये-
आपको बताते चले की माधव जब इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल कर रहे थे और फिर उस वक्त उन्हें एजुकेशन लोन लेने में भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा और आपको बता दे की वह सिस्टम से काफी परेशान हो गए और उन्होंने फैसला किया कि वे इस सिस्टम को बदलने के लिए कोशिश भी करेंगे,


इसके बाद ही कुछ साल नौकरी करने के बाद उन्होंने नौकरी छोड़ दी और 2017 में पहली बार यूपीएससी की परीक्षा भी दी थी और फिर पहली बार में उन्हें सफलता नहीं मिली लेकिन एक बार फिर उन्होंने कोशिश की और 2018 में परीक्षा तो पास कर ली थी अब,


लेकिन अब रैंक के मुताबिक इंडियन ऑडिट एंड अकाउंट्स सर्विस भी मिली और फिर आखिरकार 2019 में उन्होंने आईएएस बनने का सपना पूरा भी कर लिया और फिर उनके इस सफर में ही दोस्तों ने काफी मदद भी की थी।  

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ