Header Ads Widget

Responsive Advertisement

अनिल अंबानी की भी कंपनी रिलायंस एविएशन को फायदा पहुंचाया गया, अब डील में भी शामिल सभी लोग जज के सामने बुलाए जाएंगे-मंसूस, जानिये सब कुछ हिंदी में

 

अनिल अंबानी की भी कंपनी रिलायंस एविएशन को फायदा पहुंचाया गया, अब डील में भी शामिल सभी लोग जज के सामने बुलाए जाएंगे-मंसूस, जानिये सब कुछ हिंदी में 




आज हम आपके लिए लाए हैं एक इनसाइड स्टोरी का एक हिस्सा, आपको बता दे की यॉन की राफेल डील में करप्शन के बारे में छपी छह रिपोर्ट के आधार पर ही फ्रांस में भ्रष्टाचार और वित्तीय अपराधों के खिलाफ काम करने वाले NGO ‘शेरपा’ ने फ्रांस की सार्वजनिक अभियोजन सेवा (पीएनएफ) से इस सौदे में भ्रष्टाचार की शिकायत भी की है।


इसके साथ ही आपको बताते चले की फ्रांस की सरकारी जांच एजेंसी (PNF) ने ‘शेरपा’ के सभी आरोपों को स्वीकार करते हुए 14 जून को जांच शुरू कर दी है  इस पूरे मसले को विस्तार से समझने के लिए शिकायत करने वाले NGO ‘शेरपा’ की लिटिगेशन अधिकारी शॉनेज मंसूस से भी बात की है।


सवाल-  अब इस जांच का फ्रांस के भविष्य के रक्षा सौदों पर क्या असर हो सकता है?
जवाब- 
हम उम्मीद करते हैं कि ये पूरा मामला जो की 2018 में हमारी पहली शिकायत से शुरू हुआ था और अब जांच तक भी  पहुंचा है,


और फिर इसका फैसला फ्रांस में भ्रष्टाचार की रोकथाम के लिए स्थापित तंत्र की नाकामियों को भी सामने भी लाएगा और इसके साथ ही रक्षा सौदे के बारे में सार्वजनिक तौर पर बहुत जानकारियां भी उपलब्ध नहीं होती हैं और फिर हमें लगता है कि इस मामले से भ्रष्टाचार के खिलाफ मजबूत तंत्र की भी जरूरत पर भी बात होनी है। 


सवाल- अब क्या आपको लगता है कि इस जांच से राफेल जेट भी सवालों के घेरे में आ गया है?
जवाब- 
मैं तो नहीं जानती कि इस सवाल का जवाब कैसे दिया जाए हां, लेकिन इस मामले का मुख्य बिंदु यही है कि इस डील में जो हुआ है और फिर उसमें भ्रष्टाचार के संदेह के ठोस भी कारण हैं।


 इसके साथ ही हमें लगता है कि इसकी अभी तक जांच न हो पाने के कारण राजनीतिक हैं और फिर हम ये नहीं समझ पा रहे हैं कि अब तक इसकी कोई जांच भी क्यों नहीं हुई थी?

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ